Total Pageviews

Thursday, 16 December 2010

मेरे बाग के फूल..................

मेरे बाग के फूल
डाली से टूट भी जाए तो
मुरझाते नहीं है।
पँखुड़ी-पंखुड़ी अलग हो जाए
तो भी
खुशबू ही विखेरते हैं।