Total Pageviews

Sunday, 29 August 2010

ऐसा क्यों होता है?

क्या तुमको पता है ऐसा क्यों होता है
ज़िन्दगी में, कि हम चाहते है जो-कुछ नहीं मिलता
मिलता है जो हम नहीं चाहते
देता है वह जिससे हम चाहते है।

क्या तुमको पता है ऐसा क्यों होता है
कि जब आप प्यार करते है किसी को
तो उस पर चाहे जितना भी विश्वास हो
शक होता है दूसरों की बातों से।

क्या तुमको पता है ऐसा क्यों होता है
कुछ पाने की चाहत में रास्ते सब सही है
पर फिर भी हार जाते है
गम में डूब जाते है।

क्या तुमको पता है जब कुछ अपना खो देते है तो
सांतवना देने वाले पर भी गुस्सा आता है
फिर भी उससे कुछ कह नहीं सकते
अपने दिल का दर्द कम नहीं कर सकते
और तब भी ऊपर वाला शांत बैठा सब कुछ देखता रहता है।


ऐसा क्यों होता है
क्या ये सब धोका है
सब क्या दिल को दुख देने का जरिया है।

ऐसा क्यों होता है
कि जिससे प्यार किया वही आपको
कहता है
तुमने प्यार में देरी कर दी
ऐसा क्यों होता है
कि आप उसे चाहे ज़िन्दगीभर और
वह भूल जाए आपको
अपनी नई ज़िन्दगी में आकर
कामयाबी की पहली झलक पाकर

ऐसा क्यों होता है
कि आगे बढ़ना चाहो भी तो
प्यार की यादें बढ़ने नहीं देती
प्यार रोक देता है हर कदम
प्यार थाम लेता है हाथ
प्यार दबा देता है आगे बढ़ने का फैसला
प्यार ही तोड़ देता है आगे बढ़ने का सपना

ऐसा क्यों होता है?

6 comments:

  1. Blog padne waalo ko mera saadar namaskar. Me Madhuchanda aap sab pathako se nivendan karti hu ki yadi aap sab ko meri kavitaaye pasand aati hai to kripayaa aap apni taraf se jo kuch meri kavita ke baare me kehna chahate hai woh yaha comments me likhiye jarur. Meri kavitaao me koi khaami ya vishesta hai to usse yaha post kijiye taaki me inhe padkar apne kavitaao me sudhaar laa saku. Mujhe aap sab ke sujhaao ki aawashyakta hai. Atth aap sab yaha mere kavitaaye padkar apna sujha post kare.

    ReplyDelete
  2. nice madhu......but tell me aisa subject kyu chuna

    ReplyDelete
  3. Mera yeh pasandida subject tha. Me bahut pehle se likhti rahi hu, bas tum logo ko kabhi nahi bataya tha.Ab mouka mila to meine apni kalpanaao ko sakaar rup dene chali. Meine tum logo ke saath rehte waqt hi kavitaaye likhni shuru ki thi.

    ReplyDelete
  4. Oh Madhu really nice poem heart touching...

    Why it happens?

    It happens,
    People comes and goes in our life,
    But life never stops for anyone.
    It happens,
    People accept what they get,
    Because they are happy with little effort
    It happens,
    People like jewels and diamond,
    But they don’t see how it born...
    Burning on fire and passing through blades and hammer
    Makes them beautiful and precious...
    It happens…
    The stone which bear the pain of chisel becomes a statue…
    It happens…
    Live the life at the spot…
    We never know when the glowing lamp of life will be off...
    It happens…
    If you are in love tell the one before its too late…
    Because life has to go on…
    Its always goes on….
    No matter we are or not…
    Life goes on…
    And it happens….

    ReplyDelete
  5. Life is a gift...
    Be a gift for this world..
    Everyone lives for them self...
    Why should not we live for others...
    Life is two small.. But we think it will go on..

    ReplyDelete
  6. You are right Tiru. Hame dusro ke liye jina chahiye, apne liye nahi. Apne sujhao aur kavita ke angreji anuwaad ke liye apaar dhanyawaad.

    ReplyDelete